राष्ट्रीय सेवा योजना (N.S.S.) के अंतर्गत विद्यार्थियों को दो वर्ष की अवधि में प्रत्येक वर्ष 120 घंटे का नियमित कार्यक्रम तथा सात दिवसीय (दिन – रात ) विशेष शिविर कार्यक्रम में भाग लेना होता है। कार्यक्रम के पूर्ण हो जाने पर प्रतिभागी विद्यार्थी को विश्वविद्यालय द्वारा प्रमाण -पत्र प्रदान किया जाता है। इस प्रमाण – पत्र का अपना महत्व है। विद्यार्थियों को प्रमाण -पत्र से स्नातकोत्तर स्तर के प्रवेश में , अनेकों शासकीय / अशासकीय नौकरियों में , गैर सरकारी संगठनों के निर्माण एवं उनमे काम करने हेतु सहायता मिलती है। परन्तु मात्र प्रमाण -पत्र प्रदान करना ही इस योजना का उद्देश्य नहीं है।  औपचारिक अध्ययन से जहाँ विद्यार्थी कपितय विषयों का सैद्धान्तिक ज्ञान प्राप्त कर परीक्षा में उत्तीर्ण होकर डिग्री प्राप्त करते है। वहीं योजना से जुड़कर छात्र पूरे परिवेश की व्यावहारिक जानकारी प्राप्त करते है एवं कार्यक्रमों के संचालन द्वारा अपने नेतृत्व क्षमता को विकसित कर सक्षम नागरिक बनते है।

महाविद्यालय में राष्ट्रीय सेवा योजना के अंतर्गत उल्लेखनीय कार्य करने वाले स्वयंसेवकों को पुरुस्कृत भी किया जाता है। साथ ही भारत सरकार द्वारा संचालित विभिन्न युवा कार्यक्रमों एवं राष्ट्रीय शिविरों जैसे पूर्व गणतंत्र दिवस परेड कैम्प , गणतंत्र दिवस परेड कैम्प , राष्ट्रीय एकीकरण शिविर , मेगा कैम्प एवं विभिन्न साहसिक शिविरों में भाग लेने का सुनहरा अवसर भी प्राप्त होता है।