राष्ट्रीय सेवा योजना (N.S.S.)

राष्ट्रीय सेवा योजना (N.S.S.) के अंतर्गत विद्यार्थियों को दो वर्ष की अवधि में प्रत्येक वर्ष 120 घंटे का नियमित कार्यक्रम तथा सात दिवसीय (दिन – रात ) विशेष शिविर कार्यक्रम में भाग लेना होता है। कार्यक्रम के पूर्ण हो जाने पर प्रतिभागी विद्यार्थी को विश्वविद्यालय द्वारा प्रमाण -पत्र प्रदान किया जाता है। इस प्रमाण – पत्र का अपना महत्व है। विद्यार्थियों को प्रमाण -पत्र से स्नातकोत्तर स्तर के प्रवेश में , अनेकों शासकीय / अशासकीय नौकरियों में , गैर सरकारी संगठनों के निर्माण एवं उनमे काम करने हेतु सहायता मिलती है। परन्तु मात्र प्रमाण -पत्र प्रदान करना ही इस योजना का उद्देश्य नहीं है।  औपचारिक अध्ययन से जहाँ विद्यार्थी कपितय विषयों का सैद्धान्तिक ज्ञान प्राप्त कर परीक्षा में उत्तीर्ण होकर डिग्री प्राप्त करते है। वहीं योजना से जुड़कर छात्र पूरे परिवेश की व्यावहारिक जानकारी प्राप्त करते है एवं कार्यक्रमों के संचालन द्वारा अपने नेतृत्व क्षमता को विकसित कर सक्षम नागरिक बनते है।

महाविद्यालय में राष्ट्रीय सेवा योजना के अंतर्गत उल्लेखनीय कार्य करने वाले स्वयंसेवकों को पुरुस्कृत भी किया जाता है। साथ ही भारत सरकार द्वारा संचालित विभिन्न युवा कार्यक्रमों एवं राष्ट्रीय शिविरों जैसे पूर्व गणतंत्र दिवस परेड कैम्प , गणतंत्र दिवस परेड कैम्प , राष्ट्रीय एकीकरण शिविर , मेगा कैम्प एवं विभिन्न साहसिक शिविरों में भाग लेने का सुनहरा अवसर भी प्राप्त होता है।

पुस्तकालय (Library)

महाविद्यालय में विद्यार्थियों के अध्ययन की दृष्टि से एक पुस्तकालय की व्यवस्था की गयी है। जिसमे सम्बंधित विषयों की दुर्लभ पुस्तकें उपलब्ध हैं जो की एक निश्चित समय को दी जाती हैं। अध्ययन की दृष्टि से पुस्तकें प्राप्त करने हेतु पुस्तकालय प्रमुख से अगस्त मास में अपना कार्ड बनवा लें। पुस्तकालय के नियम सम्बन्धी सम्पूर्ण अन्य जानकारी पुस्तकालय पहुँच कर ही प्राप्त की जा सकेगी।

छात्र कल्याण समिति

विद्यार्थियों के हित हेतु महाविद्यालय में प्रतिवर्ष छात्र कल्याण समिति का गठन किया जाता है जिसमें प्रत्येक कक्षा से मेधावी छात्र-छात्राओं का चयन किया जाता है। समिति की प्रत्येक मास में बैठक आयोजित की जाती है जिसमें विद्यार्थी अपनी समस्याएं प्रभारी व सदस्य के समक्ष प्रस्तुत करते हैं। प्राचार्य महोदय द्वारा उन समस्याओं का समाधान करने का प्रयास किया जाता है.

पत्रिका प्रकाशन

महाविद्यालय द्वारा प्रकाशित होने वाली वार्षिक पत्रिका “अरुणिमा” में विद्यार्थी अपने लेख इत्यादि लिखकर महाविद्यालय में दे सकते हैं। पत्रिका का प्रकाशन प्रति वर्ष नियमित रूप से किया जा रहा है।

IQAC का गठन

विश्वविद्यालय के निर्देशानुसार महाविद्यालय में IQAC (इंटरनेशनल क़्वालिटी एश्योरेंस सेल) का गठन किया जा चुका है। इसके सुचारू रूप से संचालन हेतु एक समिति का भी गठन किया जा चुका है। IQAC का मुख्य उद्देश्य शैक्षणिक संस्थाओं के विभिन्न क्रियाकलापों के संबंध में मानक विकसित कर एक मुख्य कार्य के रूप में सुनिश्चित करना है।

यूनिफार्म (Dress)

सत्र 2016-17 से महाविद्यालय में विद्यार्थियों हेतु यूनिफॉर्म अनिवार्य कर दी गई है। छात्र सफेद शर्ट, काली पैंट व छात्राओं हेतु सफेद सलवार कुर्ता व सफेद दुपट्टा निर्धारित कर दिया गया है। अतः विद्यार्थियों को उक्त वेशभूषा में आना अनिवार्य होगा।

प्रयोगशालाएं (Labs)

महाविद्यालय में भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जंतु विज्ञान एवं वनस्पति विज्ञान की पृथक पृथक प्रयोगशालायें हैं। जिन्हें अनुभवी प्रयोगशाला सहायकों द्वारा व्यवस्थित किया जा चुका है, सभी प्रयोगशालायें आवश्यक एवं आधुनिक उपकरणों से पूर्ण रूप से युक्त है।

क्रीड़ा (Sports)

विद्यार्थियों का अध्ययन के साथ साथ शारीरिक सौष्ठव सुदृढ़ हो, इस निमित्त महाविद्यालय में वालीबॉल, क्रिकेट, फुटबॉल, भाला फेंक, गोला फेंक, चक्का फेंक, हॉकी आदि आउटडोर गेम्स के अतिरिक्त शतरंज, कैरम, लूडो, बैडमिंटन इत्यादि इनडोर गेम्स की भी सुविधा है।

व्यायामशाला (Gym)

महाविद्यालय में अत्याधुनिक उपकरणों (Trade Mill, Dumb Bells, Exercise Cycle, Power Roller, Slimmer, Jogging Machine आदि) से सुसज्जित व्यायामशाला (GYM) की व्यवस्था है।